Home Hindi Saakhiyan Saakhi – Shaheed Bhai Bota Singh Or Bhai Garja Singh

Saakhi – Shaheed Bhai Bota Singh Or Bhai Garja Singh

0
Saakhi – Shaheed Bhai Bota Singh Or Bhai Garja Singh

Saakhi – Shaheed Bhai Bota Singh Or Bhai Garja SinghSaakhi - Shaheed Bhai Bota Singh Or Bhai Garja Singh

ਇਹ ਸਾਖੀ ਪੰਜਾਬੀ ਵਿੱਚ ਪੜੋ ਜੀ

शहीद भाई बोता सिंह जी और शहीद भाई गरजा सिंह जी

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”इस साखी को सुनें”]

नादिर शाह के भागने के बाद जब जकरिया खान ने सिक्खों के सर्वनाश का अभियान चलाया तो उसने सभी अत्याचारों की सीमाएं पार कर दीं। जब पंजाब में कोई भी सिक्ख ढूंढने पर भी नहीं मिला तो उसने खुश होकर इस बात का ढिंढोरा पिटवा दिया कि हमनें सिक्ख सम्प्रदाय का विनाश कर दिया है। अब किसी को भी बागी दिखाई नहीं देंगे। इन दिनों लाहौर नगर के नजदीक गाँव भड़ाण के निवासी भाई बोता सिंह अपने मित्र भाई गरजा सिंह के साथ श्री दरबार साहब जी के सरोवर में स्नान करने की इच्छा से घर से दरबार साहिब की और निकल पड़े लेकिन सिक्ख विरोधी अभियान के चलते वह दोनों रात को यात्रा करते और दिन में किसी झाड़ी और वीरानें में आराम करके समय व्यतीत करते।

पहले उन्होंने श्री तरनतारन साहब जी के सरोवर में स्नान किया। फिर जब दिन ढलने के समय श्री अमृतसर साहब जी चलने के लिए वे दोनों जब सड़क किनारे उगी कंटीली झाडिय़ों की ओट से बाहर निकले तो उन्हें वर्दीधारी आदमियोंं ने देख लिया।

सिक्खों ने उनको देखकर कुछ डर सा महसूस किया। कि तभी वह पठान सिपाही बोले यह तो सिक्ख दिखाई देते हैं? फिर वह विचारने लगे कि यह सिक्ख हो नहीं सकते। यदि सिक्ख होते तो यह भयभीत हो ही नहीं सकते थे। वह सोचने लगे, क्या पता सिक्ख ही हो, यदि सिक्ख ही हुए तो हमारी जान खतरे में है, जल्दी यहाँ से खिसक चलें।

पर वह एक दूसरे से कहने लगे कि जकरिया खान ने तो घोषणा करवा दी है कि मैंने कोई सिक्ख रहने ही नहीं दिया तो यह सिक्ख कहाँ से आ गए? दोनों पठान सिपाही तो वहाँ से खिसक गए परन्तु उन की बातों के सच्चे व्यंग्य ने इन शूरवीरों हृदय में पीड़ा पैदा कर दी कि जकरिया खान ने सिक्ख खत्म कर दिए हैं और सिक्ख कभी भयभीत नहीं होते? इन दोनों योद्धाओं ने विचार किया कि यदि हम अपने आप को सिक्ख कहलाते हैं तो फिर भयभीत क्यों हो रहे हैं? यही समय है, हमें दिखाना चाहिए कि सिक्खों को कभी भी खत्म नहीं किया जा सकता है।

इसलिए हमें कुछ विशेष कार्य कर यह दिखाना है कि सिंह कभी भयभीत नहीं होते। बहुत सोच विचार के बाद उन्होंने जरनैली सड़क पर एक उचित स्थान ढूंढ लिया, यह था नूरदीन की सराय, जिसे इन्होंने अपना बसेरा बना लिया और वहां पास ही के पुल पर उन्होंने एक चुंगी नाका बना लिया, जिस पर वह दोनों मोटे सोटे (लठ्ठ) ले कर पहरा देने लगे और सभी मुसाफिरों से चुंगीकर (टैक्स) वसूल करने लगे।

उन्होंने घोषणा की कि यहाँ खालसे का राज स्थापित हो गया है, अत: बैलगाड़ी को एक आना और लादे हुए गधों का एक पैसा कर (टैक्स) देना लाजमी है। सभी लोग सिक्खों के डर के कारण चुपचाप कर देते और चले जाते, कोई भी व्यक्ति विवाद नहीं करता लेकिन आपस में चर्चा करते कि जकरिया खान झूठी घोषणाएं करवाता रहता है कि मैंने सभी सिक्ख विद्रोहीयों को मार दिया है। इस प्रकार यह दोनों सिक्ख लम्बे समय तक चुंगी रूप में कर वसूल करते रहे, परन्तु प्रशासन के की तरफ से कोई कार्यवाही नहीं हुई। इन सिक्खों का मूल उद्देश्य तो सत्ताधारियों को चुनौती देना था कि आपकी घोषणाएं हमनें झूठी साबित कर दीं हैं, सिक्ख जीवित हैं और पूरे स्वाभिमान के साथ रहते हैं। एक दिन बोता सिंह के मन में बात आई कि हम तो गुरू चरणों में जा रहे थे पवित्र सरोवर में स्नान करने, परन्तु हम यहाँ कहाँ माया के जंजाल में फंस गए हैं।

हमने तो यह नाटक रचा था, प्रशासन की आँखें खोलने के लिए कि सिक्ख अलग प्रकार के योद्धा होते हैं, जो मौत को एक खेल समझते हैं, जिनको खत्म करना संभव ही नहीं, अत: उसने प्रशासन को झंकझोडऩे के लिए एक पत्र राज्यपाल जकरिया खान को लिखा। पत्र में जकरिया खान पर व्यंग्य करते हुए, बोता सिंह ने उसको एक औरत (स्त्री, महिला) बताते हुए भरजाई (भाभी) शब्द की तरफ से संबोधन किया –

चिट्ठी लिखतम सिंह बोता

हाथ में सोटा, रास्तें में खलोता

महसूल आना लगाये गड्डे नूं, पैसा लगाया खोता

जा कह देना भाभी खाने को ऐसा कहता है सिंह बोता

बोता सिंह जी ने यह पत्र लाहौर जा रहे एक राहगीर के हाथ जकरिया खान को भेज दिया। जब पत्र अपने सही स्थान पर पहुंचा तो राज्यपाल जकरिया खान क्रोध से तमतमा उठा परन्तु उसको अपनी बेबसी पर रोना आ रहा था कि उसके लाख प्रयासों और सख्ती के बावजूद भी सिक्खों के हौसले वैसे के वैसे बुलंद थे। अत: उसने राहगीर की तरफ से पूछा कि वहाँ तुमने वहां कितने सिक्ख देखे हैं। इस पर राही ने बताया – हजूर! वहाँ पर मैंने तो केवल दो सिक्खों को ही देखा है, जिनके पास शस्त्रों के नाम पर केवल सोटे (लट्ठ) हैं परन्तु जकरिया खान को उसकी बात पर विश्वास ही नहीं हुआ, वह सोचने लगा कि केवल दो सिंह वह भी बिना हथियारों के इतनी बड़ी हकूमत को कैसे ललकार सकते हैं ? उसने जनरल जलालुद्दीन को आदेश दिया कि वह दो सौ शस्त्रधारी घुड़सवार फौजी ले कर तुरंत नूरदीन की सराय जाए, उन सिक्खों को हो सके तो जीवित पकड़ कर लाओ। बेचारा जकरिया खान और कर भी क्या सकता था।

उसको पता था कि यह सिक्ख लोग हैं, जो सवा लाख से अकेले लडऩे का अपने गुरू का दावा सही साबित करते हैं। अत: वे दस बीस सिपाहियों के काबू आने वाले नहीं हैं। जब जलालुद्दीन के नेतृत्व में 200 सैनिकों का यह दल नूरदीन की सराय पहुंचा तो वहाँ दोनों सिंह लडऩे-मरने के लिए तैयार मिले और उन्हें घोड़ों द्वारा उड़ायी गई धुल से ज्ञात हो गया था कि उन के द्वारा भेजा गया संदेश काम कर गया है। जैसे ही मुगल सैनिकों ने सिक्खों को घेरे में लेने की कोशिश की, तब सिक्खों ने ने बड़ी ऊँची आवाज में जयघोष (जयकारा) बोले सो निहाल, सत श्री अकाल, लगाके शत्रु को ललकारना शुरू कर दिया और कहा- यदि आप भाई योद्धा हो तो हमारे के साथ एक-एक करके लड़ाई करके देख लो। इस पर जलालुद्दीन ने सिक्खों द्वारा दी गई चुनौती स्वीकार कर ली। उसने अपने बहादुर सिपाही आगे भेजे। सिंहों ने उन्हें अपने मोटे-मोटे लट्ठों से पलक झपकते ही चित्त कर दिया।

फिर दो-दो करके बारी बारी सिपाही सिंहों के साथ जूझने आने लगे परन्तु सिंह उन्हें पल भर में मौत के घाट उतार देते, दरअसल दोनों सिंह अपने गांव में लाठियों से लडऩे का दिन रात अभ्यास करते रहते थे, जो उस समय काम आया। अब सिंहों ने अपना दांव बदला और गरज कर कहा- अब एक-एक के मुकाबले दो-दो आ जाओ, जलालुद्दीन ने ऐसा ही किया, परन्तु सिंहों ने अपने पैंतरे बदल-बदल कर उन्हें धराशाही कर दिया।

जलालुद्दीन ने जब देखा की कि यह सिक्ख तो काबू में नहीं आ रहे और मेरे लगभग 20 जवान मारे जा चुके हैं तो वह बौखला गया और उसने इकठ्ठा सभी को सिंहों पर हल्ला बोलने का आदेश दे दिया-फिर क्या था, सिंह भी अपनी तय नीति के अनुसार एक दूसरे की पीठ से पीठ जोड़कर पीछे हो लिए और घमासान लड़ाई लडऩे लगे। इस प्रकार वह कई शाही सिपाहियों को हमेशा की नींद सुलाकर स्वयं भी शहादत प्राप्त कर गुरू चरणों में जा विराजे। इस घटना ने पंजाब निवासियों और जकरिया खान को यह ज्ञात करवा कर दिखा दिया कि सिक्खों को खत्म करने का विचार ही मूर्खतापूर्ण है।

जब जनरल जलालुद्दीन लाहौर जकरिया खान के पास पहुंचा तो उसने पूछा – ‘उन दोनों सिक्खों को पकड़ लाए हो? जवाब में जलालुद्दीन ने कहा- ‘हजूर ! उनकी अर्थियाँ ले कर आया हूं’। इस पर जकरिया खान ने पूछा – अपना कोई सिपाही तो नहीं मरा? जवाब में जलालुद्दीन ने कहा – हजूर ! क्षमा करो, बस 25 सिपाही मारे गए हैं और लगभग इतने ही जख्मी हैं।

शिक्षा – गुरू के सिक्ख कभी डर कर नहीं रहते और कौम के लिए अपनी जान की बाजी लगाने के लिए सदा तैयार रहते हैं।

Waheguru Ji Ka Khalsa Waheguru Ji Ki Fateh
– Bhull Chukk Baksh Deni Ji –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here